Sandeep Maheshwari की सफलता की अनकही कहानी

जिस क्षण आप खुद को महत्व देना शुरू करेंगे, दुनिया आपको महत्व देना शुरू कर देगी। ये बात Sandeep Maheshwari द्वारा कही गई है। इस बात में गहरे अर्थ के साथ सच्चाई भी छुपी हुई है। Sandeep Maheshwari को कौन नहीं जानता। आज पूरी दुनिया में उनका एक अच्छा ख़ासा नाम है। Sandeep Maheshwari भी एक समय में उन्ही लाखों की तरह थे, जो सफलता पाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं और अंत में सफल हो जाते हैं।

लेकिन सफल होना इतना आसान नहीं, दस बार गिर कर फिर से उठने का प्रयास करने वाले लोग ही एक दिन दुनिया में नाम बनाते हैं। जिसका बहुत ही अच्छा उदहारण हैं, Sandeep Maheshwari,  जिन्होंने अपनी जिंदगी में बहुत सारे उतार चढाव देखें और अंत में सफलता की ऐसी पूंजी प्राप्त की, जिसे उन्होंने लाखों करोड़ों लोगों का हीरो बना दिया। आज हम आपको Sandeep Maheshwari के जीवन की सफलता की पूरी कहानी बताने जा रहे हैं।

Sandeep Maheshwari का प्रारंभिक जीवन

किसी ऊँचे खानदान से संबंध नहीं रखते थे। वो एक मिडल फॅमिली से सम्बंधित थे। उनके पिताजी का एल्युमीनियम का कारोबार था, जो कुछ समय बाद नुक्सान में चला गया और ऐसा होने के बाद उनके परिवार की जिम्मेदारी घर के इकलौते बेटे Sandeep Maheshwari पर आ पड़ी। ये समय उन पर दिन-प्रतिदिन भरी पड़ने लगा। लेकिन उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी और उन्होंने वो सब किया, जो वो अपनी आर्थिक स्तिथि को ठीक करने के लिए कर सकते थे। करोड़ीमल कॉलेज का छात्र जो बी.कॉम की पढाई कर रहा था, अब उसने अपने कॉलेज के अंतिम वर्ष में पढ़ाई छोड़कर घर की स्तिथि को सुधारने की सोची।

उस समय Sandeep Maheshwari मॉडलिंग की दुनिया से बेहद आकर्षित थे, तो उन्होंने 19 साल की उम्र में एक मॉडल के रूप में अपना करियर शुरू करने का विचार किया। लेकिन मॉडलों के साथ होने वाले उत्पीड़न और शोषण को देखने के बाद उनका यह विचार बदल गया। उसके बाद उन्होंने लगभग फ़ोटोग्राफ़ी में 2 सप्ताह की कक्षाएं ली और फोटोग्राफी में अपना करियर बनाने की सोची। कुछ दिन तक अपार फोटोग्राफी के बाद एक प्राइवेट कंपनी खोली जिसके बाद इस कार्य में भी असफलता ही हाथ लगी।

साथ आगे बढ़ते हुए, वर्ष 2002 में, उन्होंने अपने तीन दोस्तों के साथ मिलकर एक कंपनी शुरू की, लेकिन वहां भी इनकी किस्मत ने साथ नहीं दिया और वो कंपनी छ महीने में बंद हो गई है। उसके बाद उन्होंने अपनी 21 वर्ष की उम्र में एक किताब लिखी जिसमें उन्होंने अपने संघर्षों और कठिनाइयों के बारे में लिखा। लेकिन उसकी बिक्री भी कुछ समय में बंद हो गई। उन्होंने उस छोटी उम्र में बहुत सारी हार देखीं, लेकिन उसके बावजूद भी उन्होंने हार नहीं मानी। उन्होंने अपनी गलतियों को समझा और उनसे सीखा और उसके बाद उन्होंने आज तक पीछे मुड़कर नहीं देखा।

Sandeep--Maheshwari

संदीप माहेश्वरी की सफलता की पूरी कहानी

Sandeep Maheshwari ने कभी हार नहीं मानी उन्होंने अपनी ग़लतियों को सीखकर उसे प्रेरणा का सूत्र बना लिया और उसे अपने जीवन में उतारने की कोशिश की, जिसमें वो एक सफल व्यक्ति के रूप में उभरे। ये वर्ष 2006 था, जब वो महज 26 साल के थे, उन्होंने ImagesBazaar को लॉन्च किया। माना की उन्होंने अपना यह कार्य बड़े पैमाने पर शुरू नहीं किया, लेकिन Sandeep Maheshwari ने अपने आप को एक बेहतर व्यवसायी के रूप में उभरने के लिए मल्टी-टास्किंग का काम भी किया।

आज आप देख सकते हैं कि उनकी वो छोटी सी कंपनी उन्होंने घर में शुरू की थी वो आठ लाख से भी ज्यादा छवियों के साथ भारतीय छवियों की दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी कम्पनी बन चुकी है। जिसके 45 देशों में 7000 से भी अधिक ग्राहक हैं।

संदीप माहेश्वरी की उपलब्धि

Sandeep Maheshwari की ImagesBazaar साइट ने अपार सफलता हासिल की और इसी साइट से उन्होंने अपना नाम Limca Book of Records में भी दर्ज करवाया। Sandeep Maheshwari लाखों लोगों को अपने विचारों से प्रेरित करते हैं। लोगों को कभी न हार मानने के लिए अपनी कहानी के जरिए कभी हार न मानने की सलाह देते हैं। उनके इन्ही विचारों से उन्हें आने अवार्ड से नवाजा जा चुका है। उन्हें अभी तक Pioneer of Tomorrow Award के अलावा Star Achiever Award और Young Creative Entrepreneur Award मिल चुके हैं। 

उनका खुद का यूट्यूब चेंनल भी है, जहाँ उन्होंने लोगों लोगों को फ्री सेमिआर के जरिए प्रेरित करने वाले वीडियो साझा किए हैं। आज के युवा बिज़नेस में उनका अच्छा ख़ासा नाम है। किसी ने सही कहा है, अगर आप कुछ भी काम दिल से करो तो सफलता एक दिन जरूर मिलती है।

One thought on “Sandeep Maheshwari की सफलता की अनकही कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *