Train Hawker Awadhesh Dubey Arrested: ट्रेन में मार्केटिंग स्ट्रेटेजीज के साथ खिलौने बेचने वाले को पुलिस ने धरा

Train Hawker Awadhesh Dubey Arrested: मिलिए अवधेश दूबे जी से, पेशे से तो ये खिलौने बेचने वाले आम आदमी हैं। जो इस  ट्रेन से उस ट्रेन में खिलौने बेचने का काम करते हैं। आप कहेगें कि इसमें क्या ख़ास बात है। ख़ास बात हैं इनका खिलौने बेचने का अंदाज, जिस तरह से ये नेताओं की मिमिक्री और उन पर व्यंग्य कस्ते हुए खिलौने बेचते हैं, ग्राहक ना चाहते हुए भी इनसे कुछ न कुछ ख़रीद ही लेता है। इनके बेचने के इस तरीके से ही ये महाशय सोशल मीडिया पर इतने मशहूर हो गए हैं कि लोग इनकी मार्केटिंग स्ट्रेटेजीज की तारीफ करते हुए वीडियो को लगातार साझा किए जा रहे हैं।

आपने भी इनकी  ट्रेन के ड़िब्बे खिलौने बेचने वाली वीडियो जरूर देखी होगी। लेकिन अब जो हम आप को बता रहे है शायद आपको सुनकर अच्छा न लगे कि इस व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आप सोच रहे होंगें कि खिलौने बेचना तो कोई जुर्म नही है या फिर नेताओं की नकल करना। दअसल ऐसा नहीं है, खिलौने बेचना जुर्म नही है और न ही नेताओं की मिमिक्री करना। पर अवैध तरिके और रेलवे के नियमों का उलंघन करना गलत है और इसी वजह से अवधेश दूबे जी को गिरफ्तार किया गया है।

अवधेश दूबे जी हर रोज की तरह शुक्रवार को अब सूरत रेलवे स्टेशन पर एक  ट्रेन में खिलौने बेच रहे थे, जहाँ उनको सूरत पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक़ अवधेश दूबे जी ट्रेन में बिना लाइसेंस के सामान बेचते हैं। अवधेश पर सीआर 1228/19 अंडर सेक्शन 144(ए), 145(बी) और 147 रेलवे एक्ट के तहत मामला दर्ज करके गिरफ्तारी की गई है।

dubay

रेलवे विभाग से हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि अवधेश पहले नहीं है जिन्होंने अवैध तरिके से सामान बेचा है। हमने अवधेश के अलावा आठ अन्य लोगों को अवैध तरीके से सामान बेचने के लिए गिरफ़्तार किया है। इस से पहले भी अवधेश कई बार  रेलवे के नियमों को तोड़ चुके हैं।

अवधेश की गिरफ़्तारी के बाद का और खुलासा हो गया जब उन्होंने खुद साल 2005 से ट्रेनों में अवैध तरीके से सामान बेचने वाली बात स्वीकार की। इस मामले की पूरी जांच के बाद रेलवे मजिस्ट्रेट ने अवधेश को दस दिन की सजा सुनाई है। साथ ही उन पर 3500 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *