बड़े पर्दे पर नहीं जंच पाई Sidharth ​​और Parineeti की जबरिया जोड़ी

Sidharth Malhotra and Parineeti Chopra Movie: बॉलीवुड में आजकल गंभीर मुद्दे को कॉमेडी के डिब्बे मैं पैक कर परोसना आदत बन चुकी हैं। ऐसे में कहानी न तो उस मुद्दे को समाज के सामने रख पाती है और ना ही लोगों को हंसाने में कामयाब हो पाती है। अगर फिल्म को एक ही नाव में सवार करके रास्ता पार करवाया जाए तभी उसकी नैय्या पार हो सकती है। लेकिन मिसफिट जोड़ी  और बिना सर पैर वाली कहानी की नाव ज्यादा दूर तक का सफर तय नहीं कर पाती।

ऐसा ही कुछ हुआ फिल्म जबरिया जोड़ी के साथ। ‘पकड़वा विवाह’ जैसा मुद्दा जो समाज के सामने रखकर उसकी कहानी के साथ कुछ अच्छा किया जा सकता था, लेकिन यहां कॉमेडी का तड़का देकर कहानी की नैय्या ही डूबा दी। आइए जानते हैं कहानी में क्या था ऐसा जिससे उनके निदेशक ने उनकी रिलीज डेट को भी आगे बढ़वा दिया।

Jabariya Jodi Movie Story:

फिल्म  की कहानी शुरू होती है भारत के बिहार राज्य की राजधानी पटना से जहाँ पर अभय सिंह (Sidharth Malhotra) ‘पकड़वा विवाह’ करवाने में माहिर है। वो लड़कों का किडनैप करता है, जो अच्छे खासे पढ़े लिखे हैं। किडनैपिंग करने के बाद वो उनकी शादी करवाता है, ऐसी लड़कों से जिनके परिवार वाले दहेज नहीं दे सकते। अभी के पिता हुकुम सिंह (जावेद जाफरी) जो बहुत ही बड़ा दबंग है और उनका बेटा हु बी हू उनके नक्से कदम पर चल रहा है। उसकी एक गैंग हैं जिनकी मदद दे वो दूल्हों को पकड़कर शादी कराने वाले काम को बड़ी ही आसानी से कर लेता ह। अभय  को लगता है इन दहेज के लालचियों से लड़की का विवाह पकड़वा दुलहा से कराकर वो बहुत ही महान और पुण्य का काम कर रहा है।

अभय की बचपन की एक सहेली है यकीनन वो फिल्म की हीरोइन (Parineeti Chopra) है। दोनों बचपन में बिछड़ जाते हैं। बबली भी किसी से कम नहीं है वो भी पूरी दबंग लड़की है। उसका प्रेमी उसको धोखा देता है जिसे वो सरेआम टीवी पर पीटती है। लेकिन उसके पिता कोई  दबंग नहीं है वो एक साधारण से टीचर हैं। बबली का एक बहुत अच्छा दोस्त है (अपारशक्ति खुराना) जो बबली की ख़ुशी के लिए सब करता है।

अभय सिंह से बबली की मुलाकात सहेली की शादी में होती है उसके बाद उनकी मुलाकतें हर रोज होने लगती है और बचपन का प्यार फिर जाग जाता है। लेकिन अभय सिंह को इलेक्शन में चुनाव जीतने का चस्का चढ़ जाता है, जिसमें उसके लिए प्यार अब कुछ मायने नहीं रखता। लेकिन बबली अपने प्यार को पाना चाहती है क्योंकि वो उस से भावनात्मक रूप से जुड़ चुकी है। क्या बबली अपने प्यार को पाने में कामयाब होती है, यह फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगा।

sidharth-malhotra-and-parineeti

Jabariya Jodi Movie Review:

इस फिल्म का निर्देश प्रशांत सिंह ने किया है। फिल्म का फर्स्ट हाफ की कहानी कुछ हद तक आपका मनोरंजन करने में सफल होती है। लेकिन सेकंड हाफ में कहानी अपने गंभीर मुद्दे से भटक कर पूरी प्यार और इमोशनल ड्रामे की तरफ रुख कर लेती है, जैसे हर बॉलीवुड फिल्मों में  होता आया है। फिल्म बिना किसी सही डायरेक्शन के आगे बढ़ती है और एक हद तक उबाऊ हो जाती है। फिल्म का एन्ड बिकुल अच्छा नहीं किया गया, जबकि इस पर अच्छा कार्य किया जा सकता था।

Jabariya-Jodi-Movie-Review

Sidharth Malhotra की बात करें तो उन्होंने बिहारी बनने की जी तोड़ कोशिश की है लेकिन वो फिल्म में एक बिहारी कम शहरी लड़के ज्यादा लग रहे हैं। यह एक अच्छे अभिनेता है लेकिन वो बिहारी रोल के लिए बिलकुल मिसफिट नजर आए। Parineeti Chopra ने काम ठीक-ठाक किया है, लेकिन ऐसा लग रहा था मानों वो फिल्म में कोई रंग बिरंगे कपडे पहनकर कोई फैशन आइकोनिक बनने आयी हैं। इसके अलावा जावेद जाफरी और संजय मिश्रा का काम  बहुत अच्छा है। अपारशक्ति खुराना ने अपने किरदार के साथ सही इन्साफ किया है।

फिल्म का गीत “ढूंढे अंखिया” बहुत सुंदरता से गाया गया है। खड़के गिलासी और जिल्ला हिल्लेला जैसे गाने पहले ही हिट हैं, उनका ये नया वर्जन लोगों ने पहले ही बहुत पसंद किया है। कुल मिलाकर फिल्म  असली मुद्दे को कहीं पीछे छोड़ देती है। अगर आप Sidharth Malhotra और परिणीति की इस फिल्म में हंसी तो फसी जैसा कुछ अच्छा देखने की उम्मीद लगा रहे हैं तो आपको निराशा हाथ लग सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *