What is Love की असल परिभाषा जिसे शायद ही हम जानते हैं

आज मैं एक गहन विषय के बारें में सोच रही थी, जिसकी परिभाषा लोग अकसर चाहते हैं। क्या आप में से कोई जानता है कि What is Love मुझे लगता है बहुत से लोगों के पास इसका कोई जवाब नहीं होगा। ये एक ऐसा सवाल है, जो सालों से लोगों के दिमाग में हैं और हर किसी के पास लव की एक अलग परिभाषा है।

बहुत से लोगों के इस पर अपने विचार हैं। कुछ लोगों ने अपने विचार प्रस्तुत किए हैं। उनके कहने के मुताबिक़ प्रेम स्नेह और व्यक्तिगत लगाव की एक मजबूत भावना होती है। ये मन की गहराइयों से निकली एक ऐसी भावना है जिसे शायद परिभाषित नहीं किया जा सकता। हर किसी के पास प्यार के अपने अनुभव हैं। कुछ लोग प्यार करते हैं, कुछ इस से नफरत करते हैं, लेकिन सच तो यही है कि हर किसी को खुशी से जीने के लिए प्यार की जरूरत होती है।

क्या ऐसा हो सकता है कि एक व्यक्ति तो आज तक दूसरे से प्यार करता था, कल उसे उसी से नफ़रत हो जाए। जरा सोचिए, ऐसा सच में होता है और हम अपनी लाइफ में इसे कई बार अनुभव करते हैं। उस व्यक्ति के बारे में सोचें जिससे आप बहुत प्यार करते हैं। क्या आपने उससे कभी नहीं कहा कि  मुझसे दूर रहो या चले जाओ मेरी जिंदगी से और वापस मत आना। किसी के जाने के बाद क्या वो अपनी जिंदगी हार बैठता है। नहीं, लेकिन कुछ समय के लिए वो परेशान हो जाता है और एक अजीब सा डर उसे सताने लगता है।

प्यार तब होता है जब हम किसी व्यक्ति के बारे में चिंतित होते हैं। जब कोई व्यक्ति गुस्से में होता है तो सामने वाले के लिए थोड़े गलत शब्दों का इस्तेमाल कर देता है। फिर What is Love वाली परिभाषा का क्या होता है।

What-is-Love

जरुरी नहीं कि आप जिससे गुस्सा हैं, उसकी बात आपको बुरी लगे, क्योंकि आप तो उससे प्यार करते हैं। फिर ऐसा क्यों होता है कि आपको उसकी कही हर बात परेशान करती है और आपको उसका कुछ भी कहा बुरा लगता है। वो इसलिए क्योंकि आपके लिए वो व्यक्ति बहुत महत्व रखता है। आप उसकी कहि हर बात दिल से लगा लेते हैं और फिर घंटों उस बारे में सोचना आपको परेशान करता है।

in-Love

हमें लगता है कभी भी दो व्यक्तियों के बीच बना रिश्ता मिश्रित भावनाओं के बिना सफल नहीं हो सकता है। तुम जानते हो क्यों? क्योंकि वह रिश्ता दो व्यक्तियों के बीच नहीं होगा, मनुष्यों के बीच नहीं होगा। हम अपने दिल में केवल भावनाओं को रखने के लिए नहीं बने हैं। एक दूसरे के सामने अपने मन की भावनाएं रखने के लिए प्यार को व्यक्ति करना जरुरी है। इसका मतलब यही है कि हमें एक दूसरे की परवाह है। कल तुम्हारे साथ कुछ गलत न हो, इसलिए वो एक दूसरे को टोक देते हैं देते हैं। उन्हें इसका बात का ड़र हमेशा सताता है कि किसी भी कारण से आप उनसे बिझड़ न जाएं या आपके साथ कुछ गलत न हो जाए। 

जिस तरह से अकसर हमें हमारी चीजों से प्यार हो जाता है। हम उसे संभाल कर रखते हैं। उदाहरण के लिए एक गाडी को ले लीजिए – आप हाल ही में नई गाडी खरीदते हैं और उसे धोते हैं, साफ़ करते है और उसकी मरम्मत करवाते हैं ताकि उसे कुछ नुक्सान न हो। क्योंकि आपको अपनी चीजों से लगाव है।  ठीक प्यार के लिए What is Love की परिभाषा भी कुछ ऐसी ही है। प्यार सामने वाले के प्रति एक बहुमूल्य भावना है, जो आपके साथ उसका संबंध दर्शाती है, जिसे आप हर हाल में अपने पास रखना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *