Places to Visit in Haridwar and Rishikesh: हरिद्वार और ऋषिकेश स्थित के चुनिंदा खास पर्यटन स्थल


Places to Visit in Haridwar and Rishikesh: हरिद्वार को भारत के सात सबसे पवित्र शहरों में से एक माना जाता है। हरिद्वार उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में गंगा नदी के किनारे पर स्थित एक शहर है। जो अपने धार्मिक मंदिरों, आश्रमों और पवित्र गंगा नदी के कारण जाना जाता है। यहां हर साल लाखों भक्त पवित्र गंगा में डुबकी लगाने आते हैं। ऐसा माना जाता है कि पवित्र हर की पौड़ी में डुबकी लगाने से आपके सभी पापों धूल जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है।हरिद्वार को भारत के सात सबसे पवित्र शहरों में से एक माना जाता है।

हरिद्वार उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में गंगा नदी के किनारे पर स्थित एक शहर है। जो अपने धार्मिक मंदिरों, आश्रमों और पवित्र गंगा नदी के कारण जाना जाता है। यहां हर साल लाखों भक्त पवित्र गंगा में डुबकी लगाने आते हैं। ऐसा माना जाता है कि पवित्र हर की पौड़ी में डुबकी लगाने से आपके सभी पापों धूल जाते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

हर बारह साल में एक बार, हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन किया जाता है। जब लोग यहां आये हैं तो वो हरिद्वार के साथ-साथ ऋषिकेश भी जाते हैं। ऋषिकेश, आध्यात्मिक साधकों के लिए हमेशा से आकर्षण का केंद्र रहा है। आज इसे ‘विश्व की योग राजधानी’ के रूप में दिखा जाता है। यहां के बहुत से आश्रमों में सभी प्रकार के योग और ध्यान कक्षाएं हैं। आज हम आपको हरिद्वार और ऋषिकेश में घूमने के लिए स्थान (Places to Visit in Haridwar and Rishikesh) की सूचि बता रहे हैं।

हरिद्वार और ऋषिकेश में घूमने के लिए स्थान (Places to Visit in Haridwar and Rishikesh) :

हर की पौड़ी

इसे हरिद्वार के अलावा पुरे भारत में सबसे पवित्र घाटों के रूप में देखा जाता है, हर की पौड़ी एक श्रद्धेय स्थल है और बड़ी संख्या में भक्त यहां गंगा स्नान, दर्शन और अपनी प्रार्थनाएं  मांगने आते हैं। हर की पौड़ी जो शाब्दिक रूप से ‘भगवान हरी यानी की विष्णु के चरणों’ में अनुवादित है, माना जाता है। ऐसा कि भगवान शिव और भगवान विष्णु ने वैदिक काल में इस स्थान का दौरा किया था। यहां एक बहुत ही बड़ी पत्थर की दीवार है जिस पर भगवान विष्णु के पैरों के निशान हैं। शाम के समय घाट पर होने वाली आरती का नजारा अध्भुत होता है। ये जगह रात में दीयों से और अधिक रोशन रहती है।

Har-Ki-Pauri

मनसा देवी मंदिर

यह मंदिर देवी मनसा देवी को समर्पित है, जिन्हें शक्ति का एक रूप माना जाता है।  मनसा देवी के बारें में ऐसा कहा जाता है कि वो भगवान शिव के दिमाग की उपज है। इस मंदिर को बिल्व तीर्थ भी कहते हैं क्योंकि यह शिवालिक पहाड़ियों पर बिल्व पर्वत की चोटी पर स्थित है।

Mansa-Devi-Temple

चंडी देवी मंदिर 

चंडादेवी देवी को समर्पित यह मंदिर शिवालिक पहाड़ियों के नील पर्वत पर स्थित है। इसे नील पर्वत तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है जो हरिद्वार के पाँच प्रमुख तीर्थों में से एक ह।  इस मंदिर का एक और नाम सिद्ध पीठ है। इस मंदिर में भक्त अपनी मनोकामना पूरी करवाने हेतु पूजा करने बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। ट्रैकिंग करने वाले पर्यटकों के लिए ये सबसे पसंदीदा विकल्प है।

Chandi-Devi-Temple

चीला वन्यजीव अभयारण्य

गंगा नदी के पूर्वी तट पर स्थित यह अभयारण्य लगभग 249 वर्ग किमी में फैला हुआ है, जिसमें बिल्लियों की विभिन्न जातियों, बाघों, हाथियों और भालू  भी पाए जाते हैं।

Cheela-Wildlife-Sanctuary

भारत माता मंदिर

यह भारत को समर्पित एक विशाल मंदिर। इसका नाम “द मोथ इंडिया टेम्पल” है। इस मंदिर में कोई देवी या देवता की पूजा नहीं की जाती बल्कि यह मंदिर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के कई स्वतंत्रता सेनानियों और देशभक्तों के लिए समर्पित हैं। यहां उनके नाम और शहीद होने पर पूरी जानकारी दी गई है।

Bharat-Mata-Temple

ऋषिकेश में साहसिक गतिविधियाँ

सफेद पानी की राफ्टिंग के लिए भी ऋषिकेश एक शानदार जगह है। इसलिए प्लेसेस तो विजिट इन हरिद्वार और ऋषिकेश में इस जगह को सबसे अच्छा माना जाता है।  यहां बहुत सी साहसिक गतिविधियों जैसे माउंटेन बाइकिंग, कैन्यनिंग और यहां तक ​​कि बंजी जंपिंग करवाई जाती है। एडवेंचर पसंद लोगों के लिए ये बढ़िया जगह है।

Adventure-activities-in-Rishikesh

त्रिवेणी घाट, ऋषिकेश

ऋषिकेश का सबसे बड़ा घाट है जहाँ तीन पवित्र नदियां – गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम होता है। इन नदियों को हिंदू धर्म में असाधारण रूप से पवित्र और शुद्ध माना जाता है और इस विश्वास के प्रत्येक अनुयायी द्वारा मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि त्रिवेणी घाट द्वारा पवित्र जल में डुबकी आपको शुद्ध कर सकती है और आपको सभी पापों, चिंताओं और आशंकाओं से मुक्त कर सकती है।

Triveni-Ghat,-Rishikesh

ये सभी स्थान जो हमने Places to visit in Haridwar and Rishikesh की सूचि में  जोड़ें हैं, वो सभी धार्मिकता के प्रतीक हैं। ये ऐसी जगह हैं जहाँ आप धार्मिक के साथ साथ साहसिक गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *