Padmanabhaswamy Temple: रहस्यों को जानने के हैं इच्छुक, तो इस मंदिर के बारे में पढ़ना न भूलें


Padmanabhaswamy Temple: अगर आपको भी मेरी तरह यात्रा के साथ-साथ कुछ अनोखे, अनजाने रहस्यों को जानने की इच्छा होती है, तो भारत में ऐसे कई स्थान मौजूद हैं, जहां आज भी कई रहस्य दफन है। ये जगहें सभी के लिए एक ऐसी पहेली बन चुकी हैं, जिसे सुलझाना बेहद ही मुश्किल है। ऐसा ही एक अनसुलझा राज छुपा हैं भारत के दक्षिण में स्तिथ पद्मनाभस्वामी मंदिर (Padmanabhaswamy Temple) में, जिसके 7 रहस्य्मयी दरवाजों के पीछे की पहेली आज भी एक राज है।

कहने को तो पुरे भारत में न जाने कितने ही अंगिनत मंदिर है। कोई अपनी अनोखी कारीगरी कोई वास्य्काला तो कोई श्रद्धा और मान्यता के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर के पीछे कोई न कोई कहानी या मान्यता छिपी होती है। ऐसे ही पद्मनाभस्वामी मंदिर (Padmanabhaswamy Temple) के पीछे भी एक ख़ास कहानी है, जो इसे सबसे अलग बनाती है और लोग उस कहानी के रहस्य को भी जानना चाहते हैं। कहते हैं यह मंदिर अब तक का सबसे अमिर मंदिर है। 

प्राचीन काल के बने Padmanabhaswamy Temple में कहते हैं, हिन्दू मूल के ग्रंथ जैसे ब्रह्मा पुरना, मत्स्य पुरना, वरः पुरना, स्कन्द पुरना, पद्म पुरना, भगवत पुरना सभी के उल्लेख मिलते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह मंदिर 500 बी.सी. से 300 ए.डी. के बिच के बनाया गया था, साथ ही कुछ इतिहासकार तो इस मंदिर को सवर्ण मंदिर भी कहते हैं। इस मंदिर में हजारों की तादाद में श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचते हैं। यह भारत का ही नहीं बल्कि पूरे विश्व का सबसे बड़ा मंदिर माना जाता है।

आखिर क्या है पद्मनाभस्वामी मंदिर (Padmanabhaswamy Temple) के सातवें द्वार का रहस्य

इस मंदिर के बारे में अनेक किताबों में लिखा गया। जिसमें दावा किया गया था कि यहां ऐसे कई तहखाने हैं, जिसमें आपार धन होने की संभावना है। बहुत से लोगों ने उन तयखानों को खोलने की कोशिश की, लेकिन वहां जहरीले सांपो ने उन पर हमला किया। उसके बाद से किसी की हिम्मत नहीं पड़ी कि उस मंदिर को खोल सके। उसके बाद 2011 में सुप्रीम कोर्ट ने एक टीम बनाई गई।  इस टीम ने मिलकर ६ दरवाजों को खोल डाला। उसके बाद जो हुआ वो वाकई हैरान कर देने वाला था। उस तहखानों से उन्हें सोने की मूर्तियां, गहने और हीरे जवाहारात मिले। लेकिन ये टीम सातवें दरवाजे (तहखाना B) को नहीं खोल सकी।

padmanabhaswamy-temple-mystery

(तहखाना B) को नहीं खोल पाने की वजह ।

इसका कारण बहुत ही विचित्र है। जब टीम ने तहखाने का लोहे का दरवाजा खोला तो यहां उन्हें एक और दरवाजा मिला जो लकड़ी से बना था। टीम ने मिलकर फिर से उस लकड़ी के दवाजे को खोला तो वहां एक और लोहे का दरवाजा था। लेकिन इस दरवाजे को खोलने की हिम्मत किसी की नहीं हुई। उस टीम का कहना था कि इस दरवाजे को देखकर साफ़ जाहिर होता है कि इसे न ही खोले तो अच्छा है। ऐसा लगता है मानो ये दरवाजा न खोलने की लिए ही लगाया गया हो।

इस मंदिर में रहने वाले  साधुओं का कहना है कि, दरवाजे पर ‘नाग बंधम’ लगा है। जिसका अर्थ है कि इस दवाजे को शक्तिशाली मंत्रों से बंद किया गया है और इसे केवल एक सिद्ध पुरुष ही खोल सकता है जिसे इन मंत्रो की जानकारी हो। इस दरवाजे की एक और बात है कि इस पर नाग बने हैं जो किसी पहरेदार की तरह लगते हैं, मानों सालों से ये इस दरवाजे की सुरक्षा के लिए कड़ी निगरानी कर रहे हों। साथ ही इस दरवाजे को न खोलने की चेतावनी लिखी हुई है।
वैज्ञानिकों के अनुसार इस मंदिर के दरवाजे के पीछे प्राचीन विज्ञान की कोई कड़ी हो सकती है। लोगों का कहना है कि जिस मंदिर को अंग्रेज तक नहीं खोल पाए तो जरूर Padmanabhaswamy Temple में कुछ तो रहसयपूर्ण है, जो आज भी बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *