How to remove Pimple: इन प्राकृतिक तरीकों से पाएं मुहांसों से जल्द छुटकारा

How to remove Pimple: भारत में लगातार प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। अभी प्रदूषण शहरों तक पहुंचा है, लेकिन बहुत जल्द यह पूरे भारत को अपने कब्जे में कर लेगा। प्रदूषण से सांस लेने में समस्या तो आती ही है साथ ही ये एक और बड़ी समस्या का कारण बनते हैं।

प्रदूषण और धूल मिटटी से चेहरे पर मुँहासे होना बेहद ही सामान्य बात है। एक अनुमान के अनुसार 85% लोगों को पुरे जीवन काल में मुंहासें उनकी सुंदरता को प्रभावित करते हैं। 

पीसकी मुंहासें को सबसे खतरनाक माना जाता है जिससे आसानी से छुटकारा नहीं मिलता या ये कहें कि इनसे मुक्ति पाना बेहद ही मुश्किल हो सकता है। हम इस समस्या से मुक्ति देने वाले बहुत से स्किन केयर उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं, जो काफी महंगें होते हैं और वो लम्बें समय तक आपकी स्किन की रक्षा करने की गारंटी नहीं देते।

हालंकि ये कुछ समय के लिए आपको निजात देते हैं, लेकिन How to remove pimple जैसे खतरानक स्तिथि में आप पर सबसे अच्छे ये कार्य केवल पारंपरिक उपचार ही कर सकते हैं। क्योंकि इनका कोई भी दुष्प्रभाव नहीं होता और निरंतर घरेलु उपचार अपनाने से आप इस समस्या से छुटकारा पाने के साथ साथ ग्लोइंग स्किन भी पा सकते हैं।

कुछ समय पहले बाजार के महंगें ब्रांड उत्पादों ने अच्छी पकड़ बनाई और लोगों ने उनका इस्तेमाल अधिक मात्रा में करना शुरू कर दिया। लेकिन लम्बें अवधि तक कारगार साबित न होने के कारण लोग प्राकृतिक विकल्पों को फिर से अपनाने लगें।

हम जानते हैं मुंहांसों को दूर करने के लिए बहुत से घरेलू उपचार हमारे आयुर्वेदा विज्ञान में पाए जाते हैं, लेकिन उनमें से बहुत ही कम वैज्ञानिक और प्रमाणित रूप से सिद्ध पाए गए हैं। वैसे तो आपको कई नुस्खें और उपचार पता होंगें, या कुछ तो आपने ट्राई भी किए होंगें, लेकिन क्या वो आप पर काम किए। 

How-to-remove-pimple

मुझे लगता है शायद नहीं! क्योंकि आपने उन्हें निरंतर इस्तेमाल नहीं किया या आपने कुछ ही दिनों में परिणाम न मिलने पर उनका इस्तेमाल बंद कर दिया।

प्राकृतिक उपचार के बारे में एक बात तो साफ़ है कि वो तुरंत असर नहीं करते। इनका असर बहुत ही धीरे-धीरे होता है। लेकिन जब इनका असर होने लगता है तो वो काफी समय के लिए रहता है और समस्या को जड़ से खत्म करता है।

इसलिए आज हम आपको How to remove pimple के लिए कुछ प्राकृतिक उपचार बताने जा रहे हैं , जो तेजी से कार्य कर आपकी त्वचा को मुंहांसे मुक्त बनाएंगें।

हालंकि ये कुछ समय के लिए आपको निजात देते हैं, लेकिन How to remove pimple जैसे खतरानक स्तिथि में आप पर सबसे अच्छे ये कार्य केवल पारंपरिक उपचार ही कर सकते हैं। क्योंकि इनका कोई भी दुष्प्रभाव नहीं होता और निरंतर घरेलु उपचार अपनाने से आप इस समस्या से छुटकारा पाने के साथ साथ ग्लोइंग स्किन भी पा सकते हैं।

कुछ समय पहले बाजार के महंगें ब्रांड उत्पादों ने अच्छी पकड़ बनाई और लोगों ने उनका इस्तेमाल अधिक मात्रा में करना शुरू कर दिया। लेकिन लम्बें अवधि तक कारगार साबित न होने के कारण लोग प्राकृतिक विकल्पों को फिर से अपनाने लगें।

हम जानते हैं मुंहांसों को दूर करने के लिए बहुत से घरेलू उपचार हमारे आयुर्वेदा विज्ञान में पाए जाते हैं, लेकिन उनमें से बहुत ही कम वैज्ञानिक और प्रमाणित रूप से सिद्ध पाए गए हैं।

वैसे तो आपको कई नुस्खें और उपचार पता होंगें, या कुछ तो आपने ट्राई भी किए होंगें, लेकिन क्या वो आप पर काम किए। 

मुझे लगता है शायद नहीं! क्योंकि आपने उन्हें निरंतर इस्तेमाल नहीं किया या आपने कुछ ही दिनों में परिणाम न मिलने पर उनका इस्तेमाल बंद कर दिया। 

प्राकृतिक उपचार के बारे में एक बात तो साफ़ है कि वो तुरंत असर नहीं करते। इनका असर बहुत ही धीरे-धीरे होता है। लेकिन जब इनका असर होने लगता है तो वो काफी समय के लिए रहता है और समस्या को जड़ से खत्म करता है।

इसलिए आज हम आपको How to remove pimple के लिए कुछ प्राकृतिक उपचार बताने जा रहे हैं , जो तेजी से कार्य कर आपकी त्वचा को मुंहांसे मुक्त बनाएंगें।

चलिए शुरू करते हैं

हल्दी, नीम और नींबू जैसे प्राकृतिक तत्व हमारी त्वचा पर अच्छे से कार्य करते हैं, लेकिन इसके अलावा कुछ और बेहतरीन उपचार हैं, जो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से बहुत ही बढ़िया काम करते हैं और प्रमाणित हैं।

टी-ट्री ऑइल

मेलेलुका अल्टिफ़ोलिया के पेड़ की पत्तियों से मिलने वाला टी ट्री आयल बनाया जाता है। ये पेड़ ज्यादातर ऑस्टेलिया में पाए जाते हैं। वैज्ञानिकों ने यह प्रमाणित किया है कि टी ट्री आयल में बैक्टीरिया से लड़ने की क्षमता होती है और ये त्वचा की सूजन को भी कम करता है। ये दो प्रकार के बैक्टीरिया से लगने में मदद करते हैं, जैसे – पी.एक्ने और एस. एपिडर्मिडिस। जब भी आप इसे इस्तेमाल करना चाहें तो ध्यान रखें कि यह काफी शक्तिशाली है और इसे त्वचा पर सीधे लागू करना थोड़ा खतरनाक हो सकता है। इससे आपकी त्वचा पर लालिमा आ सकती है और जलन पैदा होती है। इसलिए इसका इस्तेमाल करियर आयल के साथ करना चाहिए।

Tea-tree-oil

इस्तेमाल करने की विधि 

टी ट्री ऑइल का 1 ढक्कन लें और उसमें 9 ढक्कन पानी मिलाएं। अब उसे कॉटन बॉल के साथ सीधे मुंहांसे पर लगाएं। जल्दी परिणाम पाने के लिए इस मिक्सचर का इस्तेमाल रोजाना दिन में 2 से 3 बार करें।

गंध तेल (Essential Oils)

एक बड़े वैज्ञानिक रिसर्च में दालचीनी, गुलाब, लैवेंडर और लौंग से बने गंध तेल को बहुत ही लाभकारी पाया गया है। इन सभी तरह के तेल में तनाव से मुक्ति दिलाने के साथ साथ मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया से लड़ने के भी गुण पाए जाते हैं। लेकिन इन्हें भी सीधे त्वचा पर इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। जब भी आप यह प्रोडक्ट खरीदें जो जांच लें कि इसमें क्लोव आयल मिला हो, ताकि आपको जलन महसूस न हो।

Essential-Oils

इस्तेमाल करने की विधि 

टी ट्री आयल के तरह ही इसका मिश्रण भी तैयार किया जाता है। नौ भाग पानी के साथ 1 भाग गंध तेल का मिलाएं और कॉटन बॉल की सहायता से मुंहासे पर लगाएं। रात भर भी रहने दे सकते हैं। देखना आपको कुछ ही दिनों में इसके परिणाम मिलने शुरू हो जाएंगें।

ग्रीन टी (Green Tea)

ग्रीन टी के न जाने कितने ही फायदों के बारे में आपने सुना होगा। वो हमारे मेटाबोलिस्म बढ़ाती है और वजन घटाने में मदद करती है। बहुत से लोग दिन में 3 से 4 बार इस चाय का सेवन करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं ग्रीन टी का इस्तेमाल मुंहासें को जन्म देने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए भी किया जाता है।

Green-Tea

इस्तेमाल करने की विधि 

ग्रीन टी को 3 से 4 मिनट तक पानी में डालकर उबालें और इसे ठंडा होने के लिए रख दें। अगर आप चाहें तो हर रोज इसे बना सकती हैं या फिर एक बार में बना कर किसी स्प्रे बोतल में डालकर फ्रिज में रख सकती हैं। अब इसे कॉटन बॉल की सहायता से मुंहासों पर लगाएं और 10 से 15 मिनट बाद चेहरा धो लें। आप चाहें तो रात भर भी इसे चेहरे पर छोड़ सकती हैं।

How to remove pimple के लिए ये कुछ प्राकृतिक और वैज्ञानिक प्रमाणित नुस्खे थे, जो आपको मुंहासों की समस्या से निजात दिलाते हैं। इसके अलावा एलोवेरा भी इसमें काफी कारगार साबित होता है। आप एलोवेरा जेल का रोजाना इस्तेमाल करके भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *